Sunday, October 2, 2022
HomeFestivalBuddha Purnima 2022 Date and Time Hindi

Buddha Purnima 2022 Date and Time Hindi

Rate this post

Buddha Purnima 2022 date and timing, Buddha Purnima 2022 Date, Buddha Purnima 2022 in Hindi, Buddha Purnima 2022 Holiday, Buddha Purnima Wishes

Buddha Purnima 2022: पंचांग के अनुसार बुद्ध पूर्णिमा का पर्व हर वर्ष वैशाख मास के पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है, वैशाख माह की पूर्णिमा को ही बुद्ध पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है।

इस पूर्णिमा की तिथि को गौतम बुद्ध के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। क्योंकि यह मान्यता है कि इसी तिथि को महात्मा बुद्ध का जन्म हुआ था। इसलिए यह तिथि बौद्ध धर्म के अलावा हिंदू धर्म में भी बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। 

लोक मान्यता है भगवान बुद्ध ही भगवान श्री विष्णु के अंतिम और 9वें अवतार थे। इस वर्ष बुद्ध पूणिमा के दिन साल का पहला चंद्र ग्रहण भी लग रहा है। मान्यता है कि चंद्र ग्रहण के बाद स्नान करके अनिवार्य रुप से दान दिया जाता है।

वैशाख पूर्णिमा के दिन भी पवित्र नदी में स्नान करने और दान देने की परंपरा का महत्व शास्त्रों में बताया गया है। इस दिन भगवान बुद्ध के साथ साथ श्रीहरि विष्णु और भगवान चंद्रदेव की भी पूजा की जाती है.

Buddha Purnima 2022 Date and Timing (बुद्ध पूर्णिमा 2022 कब मनाई जाएगी)

साल 2022 में 16 मई दिन जो सोमवार है वैशाख माह की पूर्णिमा है।  इसी दिन भगवान बुद्ध का जन्म उत्सव भी मनाया जाएगा। वहीं बुद्ध पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त 15 मई 2022 को दोपहर 12 बजकर 45 मिनट से शुरू होकर 16 मई 2022 को 9 बजकर 45 मिनट तक रहेगा। 

अन्य पढ़ेः-  Anant Chaturdashi 2021 | महत्व, शुभ मुहूर्त एवं पूजा- विधि,

Buddha Purnima 2022 Date (बुद्ध पूर्णिमा 2022 तिथि)

बुद्ध पूर्णिमा 2022 का शुभ मुहूर्त 15 मई 2022 को दोपहर 12 बजकर 45 मिनट से शुरू 
16 मई 2022 को 09 बजकर 45 मिनट तक रहेगा

Buddha Purnima 2022 Holiday (बुद्ध पूर्णिमा 2022 व्रत के फायदे) 

धार्मिक मान्यता के अनुसार बिना चंद्र दर्शन किए पूर्णिमा का व्रत पूरा नहीं होता है। इसी दिन चंद्र दर्शन करने से चंद्रदेव का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है।

ऐसा कहा जाता है कि बुद्ध पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और भगवान चंद्र देव की उपासना करने से आर्थिक तंगी दूर होती है। इसी दिन दान-पुण्य भी करना चाहिए.

पूर्णिमा की तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्त्व बताया गया है। पूर्णिमा के दिन सुबह स्नान करने के बाद सूर्यदेव को अर्घ्य दें और बहते जल में तिल प्रवाहित करें। 

हर महीने की पूर्णिमा जगत के पालनकर्ता श्री हरि विष्णु भगवान को समर्पित होती है। ऐसे में इस दिन पीपल के वृक्ष को भी जल अर्पित करना चाहिए।

जब एक सुंदर स्त्री ने बुद्ध को भोजन के लिए बुलाया

एक बार गौतम बुद्ध एक गाँव में रुके। उस गाँव के लोग उनकी सेवा सत्कार करने लगे। कुछ दिनों के बाद उनसे मिलने वहां एक स्त्री आई और उसने गौतम बुद्ध से पूछा कि “आपने इतनी कम उम्र में संन्यास का मार्ग क्यों चुना?”

गौतम बुद्ध ने बहुत ही विनम्रता से उसे उत्तर दिया कि “अभी हमारा शरीर युवा और आकर्षक है, पर जल्दी ही बूढ़ा होगा और अंत में इसकी मृत्यु हो जाएगी। मुझे वृद्धावस्था, बीमारी और मृत्यु के कारणों का ज्ञान प्राप्त करना है। इसीलिए मैंने संन्यास का मार्ग चुना।’’

अन्य पढ़ेः-  Janmashtami 2021 | जन्माष्टमी पर लड्डू गोपाल के भोग में बनाएं मखाने की खीर और पंचामृत

उस स्त्री ने बुद्ध से और भी कई प्रश्न किए और उनके उत्तरों से संतुष्ट होकर गौतम बुद्ध को भोजन के लिए अपने घर पर निमंत्रित किया। 

ये बात पूरे गांव में धीरे-धीरे फैल गई। सभी गांव वाले मिलकर बुद्ध के पास आए और उनसे कहा कि “आप उस स्त्री के घर भोजन करने ना जाएं।”

उनकी बात सुनकर पहले तो गौतम बुद्ध को आश्चर्य हुआ और फिर उन्होंने इसका कारण पूछा।
गांव वालों ने गौतम बुद्ध को बताया कि वह स्त्री चरित्रहीन है। गौतम बुद्ध ने गांव के मुखिया से पूछा कि “क्या गांव वाले सत्य बोल रहे हैं?” मुखिया ने भी गांव वालों की बात का समर्थन किया। 

इसके बाद गौतम बुद्ध ने मुखिया का एक हाथ पकड़ा और उनसे कहा कि “अब आप एक हाथ से ताली बजाकर दिखाइए।”

तब गाँव के मुखिया ने कहा कि “ये तो असंभव है, भला एक हाथ से कैसे ताली बजाई जा सकती है?”
गौतम बुद्ध ने कहा कि “जिस प्रकार एक हाथ से ताली नहीं बज सकती है, उसी तरह एक स्त्री स्वयं अकेले ही चरित्रहीन कैसे हो सकती है, जब तक कि गांव के कोई पुरुष साथ में चरित्रहीन ना हो।”
बुद्ध की बात सुनकर गांव वाले लज्जित हो गए और उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ।

Buddha Purnima Wishes

आपके जीवन में जो हर दिन आये
सुख, शांति और समृद्धि लाये,
श्रद्धा और अहिंसा के दूत द्वारा
बुद्ध पूर्णिमा की आपको शुभकामनाएं।।

बुद्ध पूर्णिमा के पावन मौके पर
आपको मन की शांति मिले
प्रेम और श्रद्धा के फूल
हर दिन आपके मन में खिले।

अन्य पढ़ेः-  Janmashtami 2021 | जन्माष्टमी पर लड्डू गोपाल के भोग में बनाएं मखाने की खीर और पंचामृत

बुद्धं शरणं गच्छामि। धम्मं शरणं गच्छामि।
संघं शरणं गच्छामि। बुद्धं शरणं गच्छामि।

अन्य पढ़ेः-

Sachin Tendulkar Biography in Hindi
गूगल पे लोन कैसे ले 2021

FAQ

Q. Buddha Purnima 2022 in India

16 May 2022

Q. Buddha Purnima 2022 Holiday

16 May 2022

Q. Buddha Purnima 2022 Bank Holiday

16 May 2022

Q. Buddha Purnima 2022 date and timing

बुद्ध पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त 15 मई 2022 को दोपहर 12 बजकर 45 मिनट से शुरू होकर 16 मई 2022 को 9 बजकर 45 मिनट 

Q. Buddha Purnima 2022 February

No, 16 May 2022

Q. Buddha Purnima 2022 Wishes

बुद्ध पूर्णिमा के पावन मौके पर
आपको मन की शांति मिले
प्रेम और श्रद्धा के फूल
हर दिन आपके मन में खिले।

Manoj Verma
Manoj Vermahttps://hindimejane.net
Hi, This is Manoj Verma, Founder of hindimejane.net, Blogger, IT Professional, Website Designer, Website Developer
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments